हर साल यही कहानी-मायानगरी में जगह जगह भरा पानी

0
20

 

 

मुंबई में बीती रात जमकर बारिश हुई. और इस भरी बारिश के कारण शहर के कई इलाकोंके साथ साथ सड़कों पर रेलवे ट्रेक्स पर पानी भर गया.गाडियां डूब गई हैं. बीएमसी का बजट हर साल बढ़ता है, इसके बाउजूद बढ़ते बजट के बाद भी मुंबई का हाल बरिश के बाद बेहाल हो जाता है. मुंबई की सड़कों का एक दिन की बारिश में क्या हाल हो गया? इस रिपोर्ट में जानिए

इस बारिश के साथ ही BMC के दावों की पोल भी खुल गई. BMC का बजट कई राज्य के नगर पालिका के मुकाबले कई गुना अधिक है. बीएमसी ने साल 2021-22 के लिए 39 हज़ार करोड़ से भी ज्यादा का बजट का पेश किया था. जिसमें से 200 करोड़, सड़क, फुटपाथ, फ्लाईओवर्स, ट्रैफिक से जुड़े कामों के लिए और 150 करोड़ शहर की उन जगहों को ठीक करने के लिए आवंटित किया गया जहां मॉनसून में बाढ़ जैसे हालात बन जाते हैं.

मुंबई के अधिकतर हिस्सों में नए से निर्माण किया गया लेकिन उस वक्त कुछ बनियादी जरूरतों की अनदेखी अब मुंबई में रहने वालो पर भारी पड़ रही है.अगर परेल के हिन्दमाता इलाका अधिकतर हिस्सा थोड़ा गहराई वाला है फिर भी ध्यान न दे कर जैसे तैसे निर्माण कार्य करा दिया. नतीजा ये रहा कि बारिश होते ही ये इलाका तालाब में तब्दील हो जाता है. मानसून के समय में मुंबई का ये हाल कोई नई बात नहीं है लेकिन सवाल ये है कि आखिर कब तक?

मुंबई के सायन रेलवे स्टेशन के पास बारिश इतनी ज्यादा हुई कि रेलवे लाइन पानी में डूब गई. हर कोई कन्फ्यूज हो जाएगा कि ये रेलवे स्टेशन है या कोई छोटी नहर.. बारिश अब मुंबई के लोगों के लिए मुसीबत बन गई है. मुंबई के अंधेरी इलाके में बारिश का पानी लोगों के घरों में घुस गया.

मुंबई के इस हाल की लोगों को आदत हो गई, क्योंकि ऐसा पहली बार नहीं बल्कि साल दर साल होता रहता है. इसीलिए बारिश कितनी भी हो, काम नहीं रुकता और लोग पानी से लबालब भरी सड़कों पर भी चलते दिखाई देते हैं. और इसका सबसे बड़ा कारण है प्रशासन की लापरवाही.. जिसका खामियाजा मुंबई की जनता को भुगतना पड़ता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here