दिल्ली के, ये शिव मंदिर, हैं बहुत प्रसिद्ध,करें दर्शन

0
17

सावन का पावन महीना जारी है। यह महीना भगवान शिव का पसंदीदा महीना है। भक्त भगवान शिव की पूजा अर्चना करते हैं और सावन माह के सोमवार के दिन व्रत करते हैं। वैसे तो यह पूरा महीना ही पवित्र माना जाता है। सावन में शिव भक्त भगवान भोलेनाथ के मंदिर जाते हैं।

देश भर में कई सारे शिवालय और शिव मंदिर हैं, जहां आप सावन के मौके पर दर्शन के लिए जाते हैं। इस शिव मंदिरों में शिवलिंग पर जलाभिषेक या दुग्धाभिषेक करते हैं और पूजा करते हैं। ऐसे में अगर आप दिल्ली एनसीआर के रहने वाले हैं तो यहां प्रसिद्ध शिव मंदिर हैं, जहां सावन के मौके पर शिव भक्तों का जमावड़ा लगता है। आप इस सावन दिल्ली के प्रसिद्ध शिव मंदिरों के हर सोमवार दर्शन के लिए जा सकते हैं। चाहें तो अन्य दिनों में भी इन शिव मंदिरों में दर्शन के लिए जाएं।

चांदनी चौक का श्री गौरी शंकर मंदिर-दिल्ली के प्रसिद्ध और सबसे पुराने मंदिरों में से एक चांदनी चौक में स्थित है। इस मंदिर का नाम श्री गौरी शंकर मंदिर है। सावन के महीने में चांदनी चौक के इस शिव गौरी मंदिर में बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं। इन दिनों मंदिर को बहुत खूबसूरती से सजाया गया है। मंदिर में भगवान शिव के दर्शन और पूजा के साथ ही भक्त यहां की सुंदरता को भी निहार सकते हैं। इस सावन चांदनी चौक के श्री गौरी शंकर मंदिर जा सकते हैं।”

यमुना बाजार का नीली छतरी मंदिर-दिल्ली के यमुना बाजार में प्राचीन नील छत्री मंदिर मौजूद है। इस प्राचीन शिव मंदिर को लेकर मान्यता है कि इसे महाभारत काल में स्थापित किया गया था। इस मंदिर का शांत माहौल भक्तों को भगवान के करीब महसूस कराता है।

प्रीत विहार का शिव मंदिर-सावन में दिल्ली में स्थित गुफा वाले शिव मंदिर के दर्शन के लिए जा सकते हैं। यह मंदिर भक्तों के बीच काफी प्रसिद्ध है। यहां की खूबसूरती देखते ही बनती है। शिव मंदिर के अंदर गुफा बनी है। मंदिर परिसर में खूबसूरत पार्क भी बना है। मंदिर प्रीत विहार मेट्रो स्टेशन के पास स्थित है। ऐसे में यहां पहुंचना आसान है।

रंगपुरी का मंगल महादेव बिरला कानन मंदिर-राजधानी के रंगपुरी में मंगल महादेव बिरला कानन उन मंदिरों में से एक है, जिसे आधुनिकता के साथ खूबसूरती से निर्मित किया गया है। इस मंदिर की स्थापना पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की उपस्थिति में हुई थी।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here