Home Devotional तिरुपति बालाजी का मंदिर – जहां होता है बालो का दान

तिरुपति बालाजी का मंदिर – जहां होता है बालो का दान

0
161

विगत समय से देश के अनेक राज्यों में लॉक डाउन लगा हुआ है। एवं आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में तिरुपति बालाजी के मंदिर में भी भक्तो के लिए प्रवेश बंद है। पर सामान्य दिनों की बात करे तो मंदिर दक्षिण भारत का सबसे लोकप्रिय भव्य और सुंदर है । यहाँ चढ़ावा सबसे ज्यादा आता है। एवं मंदिर में भक्तो द्वारा दिए जाने वाले बालो से भी बहुत आमदनी होती है
मान्यता है की जो भो भक्त इस मंदिर के दर्शन के लिए आता है .अगर यहां अपने पाप और बुराइयों को छोड़ जाता है. तो उसके घर में शांति रहती है .और मां लक्ष्मी का वास बना रहता है .लेकिन यहां बुराइयों को अपने मन से त्याग देना काफी नहीं है. ऐसा माना जाता है कि लोग अपने बालों के रूप में अपने पापों हर बुराइयों को यहां छोड़ जाते हैं .कई भक्त अपनी मन्नत पूरी होने पर भी यहां पर बालो का दान करते हैं .रोजाना के तौर पर हजारों लाखों रुपए के बाबा तिरुपति के दर्शन के लिए आते हैं और और न जाने कितने बाल दान कर जाते हैं सैकड़ो तन बाल यहां से सप्लाई किये जाते हैं करीब 5 ट्रक बाल रोज सप्लाई किये जाते है.
आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में तिरुपति बालाजी के मंदिर को सिर्फ बालो के दान और उससे होने वाले मुनाफे के लिए सबसे धनवान मंदिर जाना जाता है।अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय बालो की कीमत बहुत ज्यादा है क्योकि भारतीय के बाल में केमिकल का इस्तेमाल नहीं होता जिस में केरोटीन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है फंगस मुक्त करने के बाद बालो को जमा करने के बाद  बालों को साफ करने के बाद संघ कार्य से मुक्त करने के बाद बालों को ऑस्मोसिस बाथ कराया जाता है बालों को निर्यात किया जाता है और तरह तरह के केमिकल बनाकर इससे मुनाफा कमाया जाता है ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here